Job Vs Business in hindi

0
90
Business vs Job

जब हम अपनी educational लाइफ से एक कदम बढ़ने वाले होते हैं तो हमारे सामने अधिकतर एक धर्मसंकट मंडराने लगता है ।
जॉब करें या business – Job Vs Business in hindi
और अधिकतर मिडिल क्लास से जुड़े होने पे हमे पारिवारिक और सामाजिक दबाव के चलते जॉब को चुनना पड़ता है ।
परंतु इस चुनाव का अंततः डिसिशन स्वयं हमारा होता है । आज इस ब्लॉग में हम बात करेंगे जॉब और business में किसे चुने –

Job के लिए मेहनत –

मेहनत एक ऐसा वर्ड है जिसे सुनकर ही शरीर में एक कष्ट की अनुभूति होने लगती है , हालांकि ऐसा सभी के साथ नहीं होता । हम बात करते हैं job के लिए मेहनत की तो Job दो प्रकार की हो सकती हैं पहली private और Goverment, और हम जिस समाज से आते हैं, वहां गवर्मेंट Job को महत्वत्ता दी जाती है इस हम बात कर रहे हैं । Govt जॉब में लगने वाली मेहनत की –
सर्वप्रथम Job के लिए शुरू होती है पढ़ाई कि आपने अपना ग्रेजुएशन किस फील्ड में पूरा किया है, क्योंकि उसी के हिसाब से आप जॉब की स्ट्रीम चुन सकते हैं –
फिर आती है उस Particular Job Stream के लिए होने वाले interance एग्जाम की बारी , कई Job Stream में ये Interence Exam 2 और 3 चरणों में पूरा होता है जैसे
Prelimes और Mains फिर इन दोनों के बाद interview.
Job के लिए होने वाले Interence एग्जाम में कम्पटीशन कोई मामूली नहीं होता , इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि जॉब इंट्रेंस की तैयारी करने वाले कंपेटेशन एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं, कहकर खुद को संबोधित करते हैं । इस तरह से एक लाइन में कहना सही हैं कि जॉब के लिए बहुत मेहनत की आवश्यकता है ।

Business के लिए मेहनत –

जब बात मेहनत की आती है तो , एक लाइन याद आती है – परिश्रम ही सफलता की कुंजी है ।
हाँ, यह बात तो शत प्रतिशत सच है परन्तु ऐसा होता तो मज़दूर जितनी मेहनत करते हैं तो सबसे सफल व्यक्ति तो वही होने थे , इस topic में चर्चा हम अगले आने वाले ब्लॉग में करेंगे –
फिलहाल हम बिज़नेस में लगने वाली मेहनत के बारे में बात करते हैं तो , यहां सबसे पहले हमें मेहनत करनी होती है बिज़नेस की स्ट्रीम सर्च करने में क्योंकि यहां

पे रास्ते सारे खाली होते हैं , चुनना हमे स्वयं होता हैं –
फिर जैसे तैसे आप बिज़नेस चुन लेते हो तो बात आती है उसे शुरू करने की , फिर शुरू कर लेना ही सब नहीं आगे बात आती है उसे बढ़ाने की जमाने की ,
ये ठीक जॉब में होने वाली अलग अलग परीक्षाओं के जैसा ही है ।

Benefits of Jobs – जॉब के फ़ाएदे

देखिये , फायदे की बात करें तो हर चीज के अपने फायदे होते हैं, परन्तु जॉब की बात करें तो जॉब में सबसे बड़ी security होती है, मिलने वाली सेलेरी जो कि आपको इस बात की अस्सुरिटी देती है कि इस महीने के अंत में आपके बैंक खाते में आपकी सेलेरी जमा हो जायेगी । और इसी assurity के बदले job एक नुकसान भी होता है जिसे मैं लिमिटेशन कहता हूं । जॉब में मिलने वाली सेलेरी fix होती है समय के साथ बढ़ती है परंतु एक लिमिट में । इस तरह से आप जॉब के फायदे और नुकसान देख सकते हैं ।

Benefits of Business- बिज़नेस के फ़ाएदे

अब बात करते हैं business के फायदों के बारे में देखिए जॉब की तरह यहां assurity तो नहीं होती परन्तु यहां कोई लिमिट भी नहीं होती, बिज़नेस में आप अपने factor के अनुसार हजार से लाखों रुपये तक घर लेजा सकते हैं ।
साथ ही साथ जो सबसे बड़ा फायदा मुझे लगता है – कि बिज़नेस में आप अपने परिवार के आने वाली जनरेशन के लिए एक प्लेटफॉर्म तैयार करते हैं , उनके लिए मेहनत को कम करते हैं ।

What to Choose ?

किसी एक को चुनने की बात है तो इसमें आपकी कोई भी व्यक्ति मदद नहीं कर सकता , क्योंकि निश्चित आपको ही करना होगा । देखिये Job और Business की बात करते तो बहुत से factor जैसे – पारिवारिक स्थिति, मानसिक स्थिति , बजट, परिवार का पूर्वानुभव या जिसे हम बैकग्राउंड कह सकते हैं , और सबसे बड़ा factor है आपकी सोच –

My Openion

देखिये आपने जो भी चुना है , वही आपका अंततः विकल्प होना चाहिए , आइये आपके साथ मैं एक घटना साझा करना चाहता हूँ ।
जब में business की शुरुआत करने वाला था तो , मेरा संकल्प निश्चित था, परंतु सभी के कहने पर एक बार bank का एग्जाम देने गया परन्तु , Exam सेंटर में अंदर जाने से पहले मैंने अपने Id कार्ड में पेन से छेद कर दिए , जिससे कि मुझे अंदर जाने नहीं दिया गया – हालांकि मैं इस बात से बहुत खुश था । तात्पर्य यह है कि अगर अपने चुना है कि मुझे जॉब करना है तो आपको हर संभव प्रयास करने है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here